पंजाब : किसान कल्याण रैली में कांग्रेस पर बरसे पीएम मोदी

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को मुक्तसर के मलोट पहुंचे और किसान कल्याण रैली को संबोधित किया। पीएम मोदी ने कहा, 70 साल में कांग्रेस ने कभी किसानों की परवाह नहीं की। उनका जीवनस्तर ऊपर उठाने के लिए कोई प्रयास नहीं किए गए। बिना सिर-पैर की योजनाएं लाई गईं, जिससे किसानों का तो नहीं, बस एक ही परिवार का फायदा हुआ। यह बात देश का किसान भलीभांती जानता है।पंजाब : किसान कल्याण रैली में कांग्रेस पर बरसे पीएम मोदी

बकौल पीएम मोदी, किसान देश की आत्मा है। अन्नदाता है। कांग्रेस ने किसानों के साथ हमेशा धोखा किया। झूठ बोला। किसानों के नाम पर अपनी राजनीति चमकाते रहे। हमने एमएसपी का वादा निभाया है। इससे पंजाब समेत देशभर के किसानों का बहुत फायदा होने वाला है। इस फैसले से कांग्रेस और उसके सहयोगियों की नींद उड़ गई है।

इससे पहले पीएम के आते ही मंच पर पांच किसानों ने ट्रैक्टर्स के मॉडल देकर पीएम का सम्मान किया। इस कार्यक्रम में पीएम मोदी के अलावा पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल और हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर भी मौजूद हैं।

मालवा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज 2019 की नींव रखेंगे। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री व वयोवृद्ध नेता प्रकाश सिंह बादल के गृह जिले श्री मुक्तसर साहिब के मलोट में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) की किसान कल्याण रैली इस बात की सूचक है कि 2019 के चुनाव खेत-खलिहानों से लड़े जाएंगे। धान के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में दो सौ रुपये की वृद्धि करने के बाद प्रधानमंत्री ने किसानों से संवाद करने के लिए देश के अन्नदाता कहलाने वाले पंजाब को चुना है।

भारतीय जनता पार्टी और अकाली दल ने इस रैली में एक लाख लोगों के पहुंचने का दावा किया है। महत्वपूर्ण यह है कि प्रधानमंत्री की रैली पंजाब के सबसे बड़े जट्ट लैंड मालवा में रखी गई है। भले ही भाजपा का मुख्य आधार दोआबा और माझा रहा हो, लेकिन वह एनडीए के सबसे पुरानी सहयोगी अकाली दल को मजबूत करके यह संदेश देने की कोशिश करेगी कि भाजपा अपने साझेदार पार्टी के साथ पूरा सहयोग करती है। यही कारण है कि किसान कल्याण रैली के लिए पूर्व मुख्यमंत्री व अकाली दल के संरक्षक प्रकाश सिंह बादल के गृह जिले को चुना गया है। यह भी अहम है कि इस रैली का नेतृत्व बादल को ही सौंपा गया है।

इस रैली के राजनीतिक रूप से दूरगामी परिणाम निकल सकते हैं। 2018-19 के आम बजट में किसानों को सर्वोच्च मानने के बाद एनडीए सरकार ने एमएसपी में भारी वृद्धि करके 2019 की नींव रखने की कोशिश की है। रैली में भले ही हरियाणा व राजस्थान के किसान पहुंचेंगे, लेकिन भाजपा व अकाली दल ने अपने दम पर सर्वाधिक भीड़ जुटाने का दावा किया है।

45 मिनट तक रहेंगे मोदी

भाजपा के प्रदेश प्रधान श्वेत मलिक का कहना है कि रैली को लेकर सारी तैयारियां पूरी कर ली गई है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री 45 मिनट तक रैली में मौजूद रहेंगे। इस दौरान मंच पर प्रकाश सिंह बादल, शिअद अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल, केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल समेत भाजपा और अकाली दल के शीर्ष नेता भी मौजूद रहेंगे।